Entertainment

Sushant Singh Rajput Suicide Case: psychiatrist Reveals, Sushant started arguing with him only after not being satisfied with counseling | साइकेट्रिस्ट डॉ. परवीन दराइच ने कहा- ‘सुशांत ने ट्रीटमेंट बीच में ही छोड़ दिया था’, अभिनेता को बाइपोलर डिसऑर्डर होने की बात भी सामने आई

  • Hindi News
  • Entertainment
  • Bollywood
  • Sushant Singh Rajput Suicide Case: Psychiatrist Reveals, Sushant Started Arguing With Him Only After Not Being Satisfied With Counseling

37 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • सोमवार को पांच घंटे लंबी पूछताछ में दराइच से सुशांत के काउंसलिंग सेशन, इसमें आई परेशानियों और दवाओं के डोज को लेकर सवाल किए गए
  • सुशांत के दो अन्य साइकेट्रिस्ट और एक साइकोथेरेपिस्ट से पुलिस पूछताछ कर चुकी है, इनमें से एक ने सुशांत की मानसिक बीमारी का जिक्र किया

सुशांत सिंह राजपूत सुसाइड केस में मुंबई पुलिस ने सोमवार को उनके साइकेट्रिस्ट डॉ. परवीन दराइच का स्टेटमेंट रिकॉर्ड किया। बांद्रा पुलिस स्टेशन में करीब पांच घंटे चली पूछताछ में दराइच ने बताया कि सुशांत सबसे पहले उनके पास 2018 में आए थे। जब वे काउंसलिंग से संतुष्ट नहीं हुए तो उनसे बहस करने लगे थे और उन्होंने ट्रीटमेंट भी बीच में ही छोड़ दिया था। पुलिस ने दराइच से सुशांत के काउंसलिंग सेशन, इसमें आई परेशानियों और दवाओं के डोज को लेकर पूछताछ की थी। 

बाइपोलर डिसऑर्डर से जूझ रहे थे सुशांत

पुलिस ने बीते दिनों में डॉ. परवीन दराइच के अलावा दो अन्य साइकेट्रिस्ट और एक साइकोथेरेपिस्ट से भी बात की। पुलिस सूत्रों के मुताबिक, नवंबर 2019 से सुशांत इनसे अपना ट्रीटमेंट करा रहे थे। पूछताछ में एक साइकेट्रिस्ट ने बताया कि सुशांत बाइपोलर डिसऑर्डर नाम की बीमारी से जूझ रहे थे। वहीं, बाकी डॉक्टर्स के मुताबिक, उनकी जिंदगी काफी तनाव भरी थी। हालांकि, सुशांत को यह तनाव क्यों था? इसका जवाब कोई भी डॉक्टर नहीं दे सका। 

मानसिक बीमारी है बाइपोलर डिसऑर्डर

बाइपोलर डिसऑर्डर एक मानसिक बीमारी है, जिसमें इंसान के व्यवहार में तेजी से बदलाव आने लगता है। इसे मैनिक डिप्रेशन भी कहते हैं। इससे ग्रसित इंसान कई बार अपने आसपास के लोगों पर विश्वास करना बंद कर देता है। डॉक्टर्स के मुताबिक, सुशांत के मामले में भी ऐसा ही था। उन्होंने पुलिस को बताया कि सुशांत किसी भी डॉक्टर से दो या तीन बार मिलते थे और फिर उसे बदल देते थे। इसकी वजह शायद यही थी कि वे अपने डॉक्टर्स पर भरोसा नहीं करते थे। 

अप्रैल के बाद फोन पर सलाह लेते थे

पूछताछ में लगभग हर डॉक्टर ने यह बात मानी कि सुशांत दवाएं वक्त पर नहीं लेते थे। और अगर लेते भी थे तो बहुत कम समय के लिए। वहीं, अप्रैल के बाद लॉकडाउन के चलते वे डॉक्टर्स से सिर्फ फोन पर बात करते थे और सलाह ले लेते थे। डॉक्टर्स ने इस दौरान यह आशंका भी जताई कि दो-तीन महीने से सुशांत न तो दवाएं ले रहे थे और न ही उनकी सलाह मान रहे थे। 

अब तक लगभग 40 लोगों से पूछताछ हुई

  • 34 साल के सुशांत सिंह राजपूत 14 जून को मुंबई स्थित अपने घर में मृत मिले थे। पोस्टमॉर्टम और विसरा रिपोर्ट से यह सुसाइड का मामला साबित हो चुका है। हालांकि, यह वजह अब भी स्पष्ट नहीं हो पाई है कि अभिनेता ने इतना बड़ा कदम क्यों उठाया। 
  • वजह तलाशने के लिए मुंबई पुलिस अब तक लगभग 40 लोगों से पूछताछ कर चुकी है। इनमें चारों डॉक्टर्स के अलावा फिल्म क्रिटिक राजीव मसंद, यशराज फिल्म्स के मालिक आदित्य चोपड़ा, प्रोडक्शन हाउस के कुछ पूर्व अधिकारी, कास्टिंग डायरेक्टर शानू शर्मा, सुशांत का घरेलू स्टाफ, मैनेजर, पीआर टीम, एक्स मैनेजर, दोस्त, गर्लफ्रेंड, को-स्टार और परिवार के सदस्य शामिल हैं। 
  • फिल्ममेकर संजय लीला भंसाली से पूछताछ हो चुकी है। वहीं, शेखर कपूर ने अपना बयान मेल किया है। हालांकि, उन्हें पुलिस स्टेशन बुलाया जा सकता है। मामले में कंगना रनोट से भी पूछताछ हो सकती है। शेखर और कंगना ने अपने बयानों में सुशांत की मौत के लिए बॉलीवुड में फैले नेपोटिज्म को जिम्मेदार बताया है। कंगना ने पिछले दिनों एक इंटरव्यू में कहा था कि उनके पास समन आया है। लेकिन फिलहाल वे अपने होमटाउन मनाली में हैं। इसलिए बयान दर्ज कराने नहीं जा सकतीं। 
  • इधर, बीजेपी सांसद रूपा गांगुली,  राज्यसभा सांसद और पूर्व कैबिनेट मंत्री सुब्रमण्यम स्वामी, अभिनेता शेखर सुमन, टीवी एक्टर तरुण खन्ना समेत कई लोग मामले में सीबीआई जांच की मांग कर रहे हैं। एडवोकेट ईशकरण सिंह भंडारी तथ्यों की जांच कर मामले में सीबीआई जांच की गुंजाइश तलाश रहे हैं।

0


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close