Technology

Hackers break into 570 e-commerce stores including in India: Gemini report | हैकर ग्रुप ने भारत समेत 55 देशों के 570 ई-कॉमर्स स्टोर्स से डेटा चुराया, जानकारी बेचकर 52 करोड़ रुपए कमाए

  • चोरी होने वाली वेबसाइट में मुंबई स्थित ऑनलाइन ज्वैलरी स्टोर ejohri.com का नाम भी शामिल है
  • रिपोर्ट के मुताबिक, मैगेंटो सीएमएस पर संचालित 85% से अधिक विक्टिम साइट्स हैं

दैनिक भास्कर

Jul 08, 2020, 03:54 PM IST

नई दिल्ली. हैकर ग्रुप कीपर ने भारत समेत 55 देशों की करीब 570 ई-कॉमर्स स्टोर्स से डेटा चोरी किया है। बीते 3 साल यानी 2017 से अब तक इस ग्रुप ने 184,000 से ज्यादा क्रेडिट कार्ड की जानकारी लीक करके उसे डार्क वेबसाइट पर बेचकर 7 मिलियन डॉलर (लगभग 52.48 करोड़ रुपए) कमाए हैं।

थ्रेट इंटेलीजेंस फर्म जेमिनी एडवाइजरी के मुताबिक हैकर ग्रुप को कीमत के नाम से जाना जाता है। ये ग्रुप ऑनलाइन स्टोर्स के जानकारी चुरा रहा है। इसमें मुंबई स्थित ऑनलाइन ज्वैलरी स्टोर ejohri.com भी शामिल है। जिसने इसी साल फरवरी में कथित तौर पर समझौता किया था।

अमेरिकी वेबसाइट पर सबसे ज्यादा अटैक
जेमिनी की रिपोर्ट के मुताबिक, मैगेंटो सीएमएस पर संचालित 85% से अधिक विक्टिम साइट्स हैं। इन्हें मेगेकार्ट अटैक के लिए सबसे पहले टारगेट किया जाता है। दुनियाभर में इसके 250,000 से अधिक यूजर्स हैं। जिन वेबसाइट पर सबसे ज्यादा अटैक किया गया है उनमें अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम और नीदरलैंड शामिल हैं।

इन वेबसाइट्स को बनाया शिकार
हैक की गई वेबसाइटों में ऑनलाइन साइकिल मर्चेंट milkywayshop.it, पाकिस्तान स्थित कपड़े की दुकान alkaramstudio.com, इंडोनेशिया स्थित Apple प्रॉड्कट रिसेलर ibox.co.id और अमेरिका स्थित प्रीमियर वाइन और स्पिरिट्स सेलर cwspirits.com शामिल हैं।

कीपर मेगेकार्ट ग्रुप ने सैंकड़ों डोमेन से समझौता करके कई ग्राहकों के भुगतान कार्ड की जानकारी निकाली है, जिन्हें अभी तक उजागर नहीं किया गया है।

साइबर अटैक जारी रहने की संभावना
रिपोर्ट में कहा गया है कि दुनियाभर में कोविड-19 क्वारंटाइन उपायों के दौरान CNP (कार्ड नॉट प्रेजेंट) के आंकड़ों में 7 मिलियन डॉलर (करीब 52.48 करोड़ रुपए) से अधिक के रेवेन्यू और साइबर क्राइम में वृद्धि हुई है। कीपर द्वारा दुनियाभर के व्यापारियों पर साइबर अटैक जारी रखने की संभावना है।


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close