Entertainment

Bollywood News In Hindi : Meezan Jaffery will always remember the last words of grandfather Jagdeep saying, praising him- ‘Handsome Lag rahe Ho’ | मीजान जाफरी को हमेशा याद रहेंगे दादाजी जगदीप के कहे हुए आखिरी शब्द, तारीफ करते हुए कहा था- ‘हैंडसम लग रहे हो’

दैनिक भास्कर

Jul 11, 2020, 04:04 PM IST

बॉलीवुड के दिग्गज कलाकार जगदीप जी 8 जुलाई को दुनिया को अलविदा कह चुके हैं। सूरमा भोपाली का बेहतरीन किरदार निभाने वाले जगदीप के गुजर जाने पर उनके पोते मीजान जाफरी ने एक इमोशनल नोट शेयर करते हुए उनसे की हुई आखिरी बात शेयर की है। इसी के साथ मीजान ने ये भी बताया कि आखिर उनका नाम सय्यैद इश्तियाक अहमद जाफरी से जगदीप कैसे हुआ।

शुक्रवार को मीजान जाफरी ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट से दादा के साथ बचपन की तस्वीर शेयर की है। इस तस्वीर के साथ उन्होंने बताया कि जगदीप ने कम उम्र में ही अपने पिता को खो दिया था जिसके बाद उन्होंने डायरेक्टर के आसिफ, मेहबूब खान, बिमल रॉय और गुरू दत्त को अपना पिता माना। उन्होंने 70 साल के फिल्मी करियर में 400 फिल्में की हैं।

View this post on Instagram

Thank you for all the love and appreciation everyone has give to Dada. He gave 70 years of his life to the film industry. He was living and breathing films as all he knew since the age of 10 was films. His father had passed away when he was really young, so his father figures were K.Asif, Mehboob Khan, Bimal Roy, Guru Dutt and a few other directors of that time. Hes worked with almost every actor of his generation and gave everyone a run for their money. He was stress buster for people watching him on screen and brought a smile to everyones face. With having done 400 films his legacy lives on forever. I asked him one day why the name JAGDEEP and he said with a smile (which was perpetually on his face) he wanted to bring light into everyone’s life (jag- world, deep- light). He never interfered in anyones life and always had a happy-go-lucky attitude and lunches at his house were like a story telling session where people of all age groups sat down and listened like children. Thank you dada for passing on that knowledge and those stories on to my family and I. Today I’m upset because there are so many things I wanted to ask you and so many I wanted to say but I guess its meant for another time. I could go on and on about your accomplishments but i guess its time to let go. You’re not here physically but you will always be in our hearts? For those who have grandparents living with them or not living with them, PLEASE spend more time. I spoke to my Dada 2 days before his demise and my father passed him the phone while on facetime. All he said to me was “aur beta kaise ho, youre looking very handsome”. Thats the last thing my grandfather said to me and I dont think ill ever forget that image. Make an effort to pick up the phone and speak to them for 2minutes it’ll make their day because I promise you when the time comes for them to depart from this world, you will regret it no matter how much time you guys have spent together. However old, grumpy and irritating they have gotten, cherish every moment with them and make the most of it❤️

A post shared by Meezaan (@meezaanj) on Jul 10, 2020 at 2:33am PDT

इश्तियाक जाफरी से कैसे बन जगदीप

मीजान ने अपनी पोस्ट में लिखा, ‘मैंने एक दिन उनसे पूछा कि आखिर उनका नाम जगदीप कैसे हुआ तो उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा कि वो लोगों की जिंदगी में रोशनी लाना चाहते थे (जग- दुनिया, दीप-रोशनी)। उन्होंने कभी किसी की जिंदगी में दखल नहीं दिया  और हमेशा हैप्पी गो लक्की इंसान रहे। जब भी उनके घर में खाना हुआ करता था तो तो वो स्टोरी सुनाते थे। हर उम्र के लोग बच्चों की तरह उनकी कहानी सुना करते थे’।

ऐसी थी दादाजी से आखिरी बातचीत

आगे मीजान लिखते हैं,  ‘जो लोग ग्रेंडपैरेंट्स होने के बावजूद उनके साथ नहीं रहते, प्लीज उनके साथ थोड़ा समय बिताइए। मैंने अपने दादाजी से उनके निधन के दो दिन पहले बात की थी। मेरे पिता (जावेद जाफरी ) ने उन्हें फोन दिया था जब हम वीडियो कॉल में थे। उन्होंने मुझसे कहा- और बेटा कैसे हो, तुम बहुत हैंडसम लग रहे हो। ये आखिरी बात थी जो मेरे दादाजी ने कही। मुझे नहीं लगता कि मैं कभी उस तस्वीर को भूल पाऊंगा। इसके साथ ही मिजान ने लोगों से अपने ग्रेंडपैरेंट्स से बातचीत करते रहने की अपील की है’। 

सूरमा भोपाली की किरादर निभा चुके जगदीप जी का निधन 8 जुलाई को हुआ। उन्हें मुस्तफा बाजार मझगांव स्थित शिया कब्रिस्तान में दफ्नाया गया। उनके बेटे जावेद सुबह ही पार्थिव देह को लेकर कब्रिस्तान पहुंच चुके थे। हालांकि, करीब डेढ़ बजे तक परिवार को मीजान जाफरी के आने का इंतजार करना पड़ा, जो किसी काम के सिलसिले में मुंबई से बाहर थे।




Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close