Entertainment

Bollywood News In Hindi : Actor Abhay Deol talks about privilege: ‘Nepotism is prevalent everywhere in our culture | धर्मेंद्र के साथ फोटो शेयर कर बोले-‘मुझे खुशी है कि पर्दे के पीछे क्या होता है, इस पर अब खुलकर बहस हो रही है’

दैनिक भास्कर

Jul 11, 2020, 05:36 PM IST

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद अभय देओल सोशल मीडिया पर खुलकर हर मुद्दे पर अपनी बात रख रहे हैं। हाल ही में उन्होंने इंस्टाग्राम पर नेपोटिज्म को लेकर एक लंबी चौड़ी पोस्ट लिखी है। अभय देओल परिवार से ताल्लुक रखते हैं। वह धर्मेंद्र के छोटे भाई अजीत देओल के बेटे हैं। उन्हें धर्मेंद्र ने बॉलीवुड में लॉन्च करने के लिए अपने प्रोडक्शन हाउस विजेता फिल्म्स के अंतर्गत 2005 में सोचा न था बनाई थी।

अभय ने की धर्मेंद्र की तारीफ: अभय ने धर्मेंद्र के साथ अपनी फोटो शेयर करते हुए लिखा, ‘मेरे अंकल, जिन्हें मैं प्यार से डैड कहता हूं। एक आउटसाइडर थे, जिन्होंने फिल्म इंडस्ट्री में बड़ा नाम बनाया। मुझे खुशी है कि पर्दे के पीछे क्या होता है इस पर अब खुलकर बहस हो रही है। नेपोटिज्म बस इसका एक छोटा सा हिस्सा है। मैंने अपने परिवार के साथ केवल एक फिल्म की, मेरी पहली फिल्म, मैं आभारी हूं कि मुझे ये सौभाग्य मिला। मैं अपने करियर का रास्ता बनाने के लिए काफी आगे तक आया, डैड ने हमेशा प्रोत्साहित किया। मेरे लिए वह प्रेरणा थे।’

नेपोटिज्म हर जगह: अभय ने आगे लिखा, ‘नेपोटिज्म हमारी संस्कृति में हर जगह है, चाहे वह राजनीति हो, बिजनेस हो या फिल्म। मैं इसके बारे में अच्छी तरह से जानता था और इसने मुझे अपने पूरे करियर में नए निर्देशकों और निर्माताओं के साथ काम करने के लिए प्रेरित किया। इस तरह मैं ऐसी फिल्में करने में सक्षम हो गया, जिन्हें “Out of the box” माना जाता था। मुझे खुशी है कि उन फिल्मों में से कुछ को जबरदस्त सफलता मिली और उन फिल्मों के कलाकार भी सफल रहे।’

अभय ने आगे कहा- ‘नेपोटिज्म हर देश में है, भारत में नेपोटिज्म ने एक और आयाम लिया है। जाति दुनिया के अन्य हिस्सों की तुलना में यहां बड़ा रोल प्ले करती है। आखिरकार, ये “जाति” है जो ये तय करती है कि एक बेटा अपने पिता के काम को आगे चलाता है, जबकि बेटी से शादी करके, एक हाउस वाइफ होने की उम्मीद की जाती है।’

‘हमें बदलाव की जरूरत’: अभय आगे बोले, ‘अगर हम बदलाव के लिए सच में गंभीर हैं तो बाकी आयामों को छोड़कर हमें सिर्फ एक आयाम या एक इंडस्ट्री पर ही फोकस नहीं रखना होगा। ऐसा करने से हमारी कोशिश अधूरी मानी जाएगी। हमें सांस्कृतिक बदलाव चाहिए।

आखिर हमारे फिल्म निर्माता, राजनेता और व्यापारी कहां से आते हैं? वे सभी लोगों की तरह ही हैं। वे उसी सिस्टम के अंदर बड़े होते हैं जैसे हर कोई। वे अपनी संस्कृति की परछाई हैं। प्रतिभा हर जगह चमकने का मौका चाहती है। जैसा कि कुछ हफ्तों में हमने पाया है कि कई सारे रास्ते हैं जिससे एक आर्टिस्ट या तो सफलता की सीढ़ियों पर चढ़ता है या फिर उसे खींच कर नीचे गिरा दिया जाता है। ‘

अभय आगे कहते हैं- ‘मुझे खुशी है कि आज कई एक्टर सामने आ रहे हैं और अपने अनुभवों के बारे में बोल रहे हैं। मैं सालों से अपने आपको लेकर आवाज उठाता आ रहा हूं, लेकिन एक आवाज के रूप में मैं अकेले केवल इतना ही कर सकता था। जो इंसान बोलता है उसे बदनाम करना आसान है। और मुझे मैं समय-समय पर ये मिलता है। लेकिन एक ग्रुप के रूप में ये मुश्किल हो जाता है। शायद ये हमारा टर्निंग मोमेंट है। 

View this post on Instagram

My uncle, whom I affectionately call dad, was an outsider who made it big in the film industry. I’m glad there is an active debate on the practices behind the scenes. Nepotism is just the tip of the iceberg. I’ve only ever made one film with my family, my 1st, and I’m grateful to be blessed and have that privileged. I’ve gone that extra mile in my career to make my own path, something that dad always encouraged. For me he was the inspiration. Nepotism is prevalent everywhere in our culture, be it in politics, business, or film. I was well aware of it and it pushed me to take chances with new directors and producers throughout my career. That is how I was able to make movies that were considered “out of the box.” I’m glad some of those artists and films went on to have tremendous success. While it plays a part in every country, nepotism has taken on another dimension here in India. I suspect caste plays a major role in it being more pronounced here than in other parts of the world. After all, it is “jati” that dictates that a son carry on the work of his father, while the daughter is expected to marry and be a housewife. If we are serious about making changes for the better, then focusing on only one aspect, one industry, while ignoring the many others, will be incomplete and possibly counter productive. We need a cultural evolution. After all, where do our filmmakers, politicians and businessmen come from? They are people just like everyone. They grow up within the same system as everybody else. They are a reflection of their culture. Talent everywhere deserves a chance to shine in his or her medium. As we have learnt over the past few weeks, there are several ways in which an artist is either uplifted to success, or beaten down to failure. I’m glad more actors are coming out today and speaking of their experiences. I’ve been vocal about mine for years now, but as a lone voice I could only do so much. It’s easy to smear one artist for speaking out, and I have been at the receiving end from time to time. But as a group, a collective, that becomes difficult. Maybe now is our watershed moment. #change #equalopportunity #nepotism #caste #jati #nuance #dialogue

A post shared by Abhay Deol (@abhaydeol) on Jul 10, 2020 at 9:34pm PDT




Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close