Sports

Ben Stokes had sneaked off for a “cigarette break” in order to calm his nerves ahead of the Super Over during last year’s epic World Cup final | वर्ल्ड कप में सुपर ओवर से पहले इंग्लिश ऑलराउंडर इतने तनाव में थे कि सिगरेट ब्रेक लिया था

  • 2019 वर्ल्ड कप फाइनल में बेन स्टोक्स ने नाबाद 84 रन की पारी खेली थी, उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया था
  • किताब के मुताबिक, मैच खत्म होने के बाद बेन स्टोक्स नहाने गए और उन्होंने बाथरूम में ही सिगरेट जलाई थी
  • इंग्लैंड-न्यूजीलैंड के बीच वर्ल्ड कप फाइनल और सुपर ओवर टाई होने के बाद बाउंड्री काउंट नियम से विजेता का फैसला हुआ था

दैनिक भास्कर

Jul 14, 2020, 01:21 PM IST

इंग्लैंड के ऑलराउंडर बेन स्टोक्स को लेकर एक किताब में खुलासा हुआ है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ सुपर ओवर से पहले उन्होंने तनाव कम करने के लिए सिगरेट ब्रेक लिया था। इंग्लैंड की जीत से जुड़ी किताब ‘मॉर्गन मेन: द इनसाइड स्टोरी ऑफ इंग्लैंड राइज ऑफ क्रिकेट वर्ल्ड कप ह्यूमिलिएशन टू ग्लोरी’ में यह खुलासा किया गया है कि उस दिन लॉर्ड्स में स्टोक्स कितने दबाव में थे। 

निक हॉल्ट और स्टीव जेम्स द्वारा लिखी गई किताब के कुछ हिस्से स्टफ. सीओ. एनजेड में प्रकाशित हुए हैं, जिसके मुताबिक सुपर ओवर से पहले 27 हजार दर्शकों से भरे स्टेडियम और हर तरफ लगे टीवी कैमरों के बीच एकांत ढूंढना कितना मुश्किल था। 

किताब में बताया गया है कि बेन स्टोक्स कई बार लॉर्ड्स मैदान पर खेल चुके थे। वे इसके चप्पे-चप्पे से वाकिफ थे। उधर, इयोन मॉर्गन इंग्लैंड के ड्रेसिंग रूम में तनाव कम करने और सुपर ओवर की रणनीति बनाने में जुटे थे। इसी दौरान स्टोक्स ने अपने लिए सुकून के पल ढूंढ लिए। 

स्टोक्स ने बाथरूम में सिगरेट जलाई थी

किताब के मुताबिक, स्टोक्स धूल और पसीने से लथपथ थे। उन्होंने मैदान पर तनाव भरे लम्हों के बीच 2 घंटे 27 मिनट तक बल्लेबाजी की थी। इसके बाद वे इंग्लैंड के ड्रेसिंग रूम में लौटे और सीधे नहाने चले गए। वहीं, उन्होंने सिगरेट जलाई और कुछ मिनट ऐसे ही बिताए।  

स्टोक्स फाइनल में मैन ऑफ द मैच थे

वर्ल्ड कप फाइनल में स्टोक्स ने नाबाद 84 रन की पारी खेली थी। उन्हें मैन ऑफ द मैच चुना गया। इस ऑलराउंडर ने सुपर ओवर में भी 8 रन बनाते हुए इंग्लैंड की जीत तय की। 

इंग्लैंड ज्यादा बाउंड्री लगाने की वजह से वर्ल्ड चैम्पियन बना

पिछले साल 14 जुलाई को हुई वर्ल्ड कप फाइनल में न्यूजीलैंड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की। कीवी टीम ने 8 विकेट के नुकसान पर 241 रन बनाए। इंग्लैंड को वर्ल्ड चैम्पियन बनने के लिए 242 रन का टारगेट मिला था, लेकिन मेजबान टीम भी निर्धारित 50 ओवरों में 241 रन ही बना सकी और मैच टाई हो गया।

सुपर ओवर में भी दोनों टीमों ने 15-15 रन बनाए थे। इसके बाद आईसीसी के बाउंड्री काउंट नियम के तहत विजेता का फैसला हुआ। मैच में न्यूजीलैंड से ज्यादा बाउंड्री लगाने की वजह से इंग्लैंड पहली बार वनडे का वर्ल्ड चैम्पियन बना था। 


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close