Sports

2011 ICC World Cup Final Match Fixing India vs Sri Lankan Sports Minister News Updates | श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री ने फाइनल में हार के 24 कारणों की लिस्ट सौंपी, कहा- जिम्मेदारी के साथ यह सब कह रहा हूं

  • मुंबई में खेले गए 2011 वर्ल्ड कप फाइनल में टीम इंडिया ने श्रीलंका को 6 विकेट से हराया था
  • श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंद अल्थगामागे ने कहा- बाहरी लोग भी मैच फिक्सिंग में शामिल

दैनिक भास्कर

Jun 26, 2020, 08:45 AM IST

श्रीलंका के पूर्व खेल मंत्री महिंदानंद अल्थगामागे ने वर्ल्ड कप 2011 के फाइनल को फिक्स बताया था। अब उन्होंने अथॉरिटी को इसके कारणों की लिस्ट सौंपी है। उन्होंने कहा, ‘9 पन्नों में मैंने 24 संदिग्ध कारण दिए हैं, जिसकी वजह से हमें फाइनल में हार मिली।’ 2011 में अल्थगामागे ही श्रीलंका के खेल मंत्री थे।

श्रीलंका के पूर्व खिलाड़ी आरोपों को खारिज कर चुके हैं। अल्थगामागे द्वारा आरोप लगाए जाने के बाद श्रीलंका की सरकार ने जांच बैठाई है। 

‘बहस के लिए तैयार हूं’
खेल मंत्री ने कहा, ‘मैं जिम्मेदारी के साथ बोल रहा हूं और बहस के लिए आगे आ सकता हूं। लोग इसके बारे में चिंतित हैं। मैं इसमें क्रिकेटरों को शामिल नहीं करूंगा, लेकिन कुछ लोग जरूर मैच को फिक्स करने में शामिल थे।’

भारत 28 साल बाद वर्ल्ड कप जीता था
2011 में मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेले गए वर्ल्ड कप फाइनल में टीम इंडिया श्रीलंका को 6 विकेट से हराकर 28 साल बाद वर्ल्ड चैंपियन बनी थी। इस मैच में श्रीलका ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 6 विकेट खोकर 274 रन बनाए थे। महेला जयवर्धने ने 103, कुमार संगकारा ने 30 और कुलशेखरा ने 40 रन बनाए थे।

लक्ष्य का पीछा करते हुए मलिंगा ने सचिन और सहवाग को जल्दी आउट कर दिया था, लेकिन गौतम गंभीर (97) और फिर महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाजी के दम पर भारत ने दूसरी बार खिताब जीता।

आईसीसी भी श्रीलंका क्रिकेट में करप्शन की जांच कर रहा
क्रिकेट में भ्रष्टाचार से जुड़े विवादों में अक्सर श्रीलंका क्रिकेट का नाम आता है। इस महीने की शुरुआत में, श्रीलंकाई क्रिकेट बोर्ड ने कहा था कि इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल कथित भ्रष्टाचार को लेकर तीन पूर्व खिलाड़ियों की जांच कर रही है। हालांकि, आईसीसी ने नामों का खुलासा नहीं किया था।


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close