Uncategorized

सुरक्षाकर्मी 2 घंटे तक विकास के आगे-पीछे घूमे, पूछा- मैं जूता स्टैंड में बैग रख दूं; पकड़ाया तो हाथापाई करने लगा




उत्तर प्रदेश के कानपुर में 8 पुलिसवालों की हत्या करने के मामले मेंगैंगस्टरविकास दुबे गुरुवार कोउज्जैन के महाकाल मंदिर से गिरफ्तार कर लिया गया। गुरुवार सुबह मंदिर की सुरक्षा कंपनी ने संदिग्ध जानकर पकड़ा और पुलिस को सूचना दी। मौके पर मौजूद चश्मदीदने बताया कि विकासकरीब सवा 7 बजेमंदिर परिसर में पहुंचाथा। यहां करीब दो घंटे तक घूमता रहा। इस दौरान उसने दर्शन के लिएवीआईपी रसीद कटवाई,फिर जूता स्टैंड पर बैग रखने के लिएपूछने लगा।

गैंगस्टर विकास ने चश्मदीद गोपाल सिंह से बैग रखने के बारे में पूछा था।

बताया जा रहा है कि मंदिर के बाहर एक दुकान वाले ने विकास को पहचान लिया था। इस संबंध में उसने सुरक्षाकर्मियों को भीजानकारी दी।ऐसे में पूरे समय सुरक्षाकर्मी उस पर नजर बनाए हुए थे।जब विकास कोपकड़कर पूछताछ की गई तो वह हाथापाई करने लगा। इसमें उसका गमछा भी गिर गया।सूत्रों के अनुसार, विकास के अलावा पुलिस ने लखनऊ के दो लोगों को पकड़ा है। कहा जा रहा है कि वे वकील हैं और विकास को यहां सरेंडर करवाने लेकर आए थे।

बोला- जूता स्टैंड पर बैग रख दूं क्या
चश्मदीद गोपाल सिंह के मुताबिक, ‘‘मैं प्रसाद वितरण करने के लिए बैठा था। विकास वहां पर पहुंचाऔर कहा कि बैग कहां रखूं, जूता स्टैंड पर रख सकता हूं क्या।इस पर मैंने कहा- यहीं पर रख दीजिए। इसके बाद वह मंदिर में अंदर चला गया। सुरक्षाकर्मियों को उस पर शक था, इसलिए वे उस पर नजर रखे हुए थे। उन्हेंलगरहा था कि यह विकास दुबे हो सकता है। जब वह दर्शन कर बाहर निकला तो उसे पूछताछ के लिए बैठा लिया गया। इसके बाद चौकी से पुलिसको बुलाया गया। उन्होंनेपूछताछ की तो उसने भागने की कोशिश की। इसके बाद उसे फिर से पकड़कर बैठा लिया। विकास के पास वीआईपी रसीद थी। उसे चौकी पकड़कर लाए तो वह खुद को विकास दुबे बताने लगा।

सुरक्षा गार्ड लखन ने कहा- पूरे समय मैंने उस पर नजर रखी।

करीब दो घंटे तक उसके पीछे घूमते रहे
सुरक्षा गार्ड लखन ने बताया कि हमने मीडिया में विकास दुबे का फोटो देखाथा। उसे देखकर लगा कि महाकाल के दर्शन करने आया है। हमने उसे जाने से रोका। इसके बादसुपरवाइजर और पुलिस अधिकारी को जानकारी दी। वह मंदिर में करीब 7 बजेपहुंच गया था। पीछे वाले गेट से बाबा के दर्शन की कोशिश कर रहा था। शक होने पर हमने करीब 2 घंटे तक उसकीनिगरानी की। इस दौरान सीसीटीवी से भी उसे वाॅच करते रहे। वे दो-तीन लोग थे। हमने उसे अकेले ही पकड़ा।

हाथापाई के दौरान विकास का गमछा जमीन पर गिर गया।

शहडोल से उज्जैन पहुंचने की आशंका
विकास के शहडोल के बुढ़ार कस्बे से उज्जैन आने की आशंका जताई जा रही है। मंगलवार को यूपी एसटीएफ ने शहडोल से उसके साले ज्ञानेद्र और भतीजे आदर्श को उठाया था। विकास का साला मंगलवार से पहले तीन दिन तक कहीं गया था। वहकहां गया था, इसकी जानकारी पुलिस को नहीं लग पाई है। ऐसा माना जा रहा है कि विकास फरार होकर कानपुर से शहडोल पहुंचा। इसके बाद पुलिस की कार्रवाई से डरकर वह शहडोल औरउज्जैन पहुंचा।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


विकास के शहडोल के बुढ़ार कस्बे से उज्जैन आने की आशंका जताई जा रही है। मंगलवार को यूपी एसटीएफ ने शहडोल से उसके साले ज्ञानेद्र और भतीजे आदर्श को उठाया था।


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close