Uncategorized

लॉकडाउन ने बदली रेलवे की कार्यशैली, कॉर्पोरेट माहौल की तरह होगा माल लदान, उद्योगपतियों से संपर्क करेंगे रेलवे अधिकारी




(शिवांग चतुर्वेदी)। लॉकडाउन के चलते देशभर में रेलवे को माल लदान से होने वाली आय काफी कम हो गई है। ऐसे में रेलवे बोर्ड ने माल लदान को बढ़ाने के लिए 2024 तक का एक्शन प्लान तैयार किया है। जिसके तहत फ्रेट यानी माल लदान को बढ़ाने के लिए रेलवे ने देशभर में जोनल और मंडल स्तर पर बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट की स्थापना की है। अब रेलवे के स्थानीय स्तर के अधिकारी व्यवसायिकों और उद्योगपतियों से संपर्क कर उन्हें रेलवे के आकर्षक स्कीम के बारे में बताएंगे और उन्हें रेलवे से माल लदान करने के लिए आकर्षक ऑफर भी देंगे।

इसके अलावा उन्हें यह बताया जाएगा कि रेलवे से माल ढुलाई अन्य परिवहन साधनों से बेहतर और विश्वसनीय साधनों के साथ ही मितव्ययी भी है। ये यूनिट माल ढुलाई को सरल और सुलभ बनाने के लिए व्यवसायियों के साथ निरन्तर विचार-विमर्श कर लदान बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्राप्त करेगी।

व्यापार उद्योग से प्राप्त किसी भी प्रस्ताव का तत्काल क्षेत्रीय स्तर पर विश्लेषण किया जाएगा और अन्य जोनल रेलवे और रेलवे बोर्ड से यदि आवश्यक हो, तो तुरंत सहायता मांगी जाएगी। बोर्ड स्तर पर स्थापित बिजनेस डेवलपमेंट यूनिट ऐसे प्रस्तावों की प्राप्ति से एक सप्ताह के समय सीमा मे निर्णय लेगी।

राजस्थान में इन्हें मिली व्यापार बढ़ाने की जिम्मेदारी
उत्तर पश्चिम रेलवे (राजस्थान का 90 फीसदी क्षेत्रफल) में मुख्यालय, जयपुर, अजमेर, जोधपुर और बीकानेर मण्डलों मेंबिजनेस डेवलपमेंट यूनिट का गठन किया गया है। इस यूनिट में परिचालन विभाग, वाणिज्य विभाग, यांत्रिक विभाग, इंजीनियरिग विभाग एवं वित्त विभाग से एक-एक वरिष्ठ अधिकारी समेत 5 अधिकारी शामिल होंगे। मुख्यालय स्तर पर मुख्य माल यातायात प्रबंधक हिरेश मीना एवं मंडल स्तर पर वरिष्ठ मंडल परिचालन प्रबंधक इन यूनिटों में समन्वयक का कार्य करेंगे, जिनसे व्यवसायिक व उद्योगपति सीधे संपर्क कर सकते हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


The lock down changed the working style of the railway


Source link

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close